ज़ख़्मी पर हमला न किया जाए | जानने अल्लाह

ज़ख़्मी पर हमला न किया जाए

Site Team

‘‘किसी ज़ख़्मी पर हमला न करो।’’ अभिप्राय है वह ज़ख़्मी जो लड़ने के क़ाबिल न रहा हो, न अमली तौर पर लड़ रहा हो।

Previous article Next article

Related Articles with ज़ख़्मी पर हमला न किया जाए

  • इस्लाम यह है कि

    Site Team

    आप इस बात पर विश्वास रखें कि इस सुष्टि और इस में मौजूद चीज़ों का एक उत्पत्तिकर्ता और रचयिता है, जो एकमात्र अल्लाह

    13/03/2013 1616
  • इस्लाम यह है कि - 2

    Site Team

    आप इस बात पर विश्वास रखें कि अल्लाह के असंख्य फरिश्ते हैं जो मनुष्य से भिन्न प्रकृति के हैं,  जिन्हें अल्लाह

    13/03/2013 2705
  • इस्लाम यह है कि - 4

    Site Team

    आप यह विश्वास रखें कि अल्लाह ने आदम को मिट्टी से पैदा किया है और वह सर्व प्रथम मानव हैं। अल्लाह ने उन्हें सन्तान

    13/03/2013 3298
जानने अल्लाहIt's a beautiful day